Search Bar

Jhagde Ko Suljhaye Kaise

कहते हैं जहाँ प्यार है, वहाँ छोटी मोटी लड़ाईयाँ जायज़ है, लेकिन लड़ाई अगर ज्यादा बड जाए तो वो रिश्तों में दरार डाल देती है वो भी बहुत बुरी तरह से. जब दो लोगो में लड़ाई होती है तो उनकी कहीं की बात कहीं चले जाती है और जिस बात से लड़ाई शुरू होती है उसकी वजह बहुत ही छोटी सी होती है. झगड़े तब होते हैं, जब दो इंसानों को एक दूसरे की बात पसंद ना आए क्योंकि सभी इंसान एक जैसे नही होते, लेकिन वो एक दूसरे को ठेस नहीं पहुंचाना चाहते क्योंकि वो आपस में प्यार करते हैं पर उनको अपनी अपनी बात ठीक लगती है, इस लिए झगडे शुरू हो जाते हैं तो आज मैं आपकी दोस्त  SHIVSHI बताउंगी कि झगड़ों को कैसे सुलझाएँ. 

Table of Contents

1. 

आपने कहावत सुनी होगी की ताली कभी भी एक हाथ से नही बजती, ऐसे ही अगर दो इंसानों में झगड़ा हो रहा हो और उनमें से एक चुप रहें तो शायद वहाँ बहस नही होगी कभी भी…… इट का जवाब पत्थर से मत दीजिये. अपने आप को काबू में रखियें. लोगो में गर्मी बहुत है,…सामने वाला अगर कुछ बोल रहा है तो मैं कैसे पीछे हट जाऊ ? ….उसे जवाब देने से पहले यह याद रखें की रिश्तों में झगड़ों से ज्यादा प्यार बनाए रखना ज़्यादा ज़रूरी है. क्योंकि जैसे टूटा हुआ शीशा नही जुड़ता, ऐसे ही टूटा हुआ रिश्ता भी नही जुड़ता. 

2.

आज कल लोगो में बड़ी बीमारी है बीच में दुसरो की बातें टोकने की. पूरी बात सुनते नही और बीच में टोक देते हैं जिस से झगड़ा शुरू हो जाता है झगड़े में कुछ लोग बिना सोचे समझे कड़वी बात कर देते हैं जिस से हाथा पायी तक बात आ जाती है. बोलने से पहले हमेशा सोचें बिना सोचे समझे ना बोले. दुसरो की पूरी बात सुन ने की आदत डालो क्या पता वो कोई ऐसी बात कर रहा हो जिस से आपको फ़ायदा हो अब जहाँ फ़ायदा है वहाँ तो हर कोई जाता है इसलिए उसे मत टोके अपने आप को रोके.

3. 

लोग जब गुस्से में होते हैं तो किसी को इतना बुरा भला कह देते हैं जिस से सामने वाले का दिल टूट जाता है इस से बेहतर है कि जब आप गुस्से में हों तो सामने वाले को शांति से कह दी जिये की हम थोड़ी देर में बात करेंगें और वहाँ से चले जाए या किसी और कमरे में चले जाएँ और तक बात ना करें जब तक आपका गुस्सा ठंडा ना हो जाए उस इंसान को बाद में बता देना की मेरा MOOD ठीक नही था क्योंकि गुस्सा बहुत रिश्तों को तबाह कर देता है.

4.

अगर आप एक दुसरो को करारा जवाब देने की सोचते हो तो आपसे बड़ा बेवकूफ़ इंसान कोई नही है हमेशा ऐसा जवाब सामने वाले को दें, जिससे उसको अच्छा भी लगे और वो बहस भी ना करें. एक तीर से दो निशाने वाला काम करो. उससे पूछे की यह आपने क्यों कहा और वो जो भी जवाब दें उसको मान लीजिये. बोलने से पहले हमेशा सोचें की क्या बोलना है और किस तरह से कहना है. अगर आपकी ज़ुबान से एक भी गलत शब्द बिना सोचे समझे निकल गया तो समझें बहुत बड़ा बवाल खड़ा हो सकता है. 

5.

उच्ची आवाज़ में तो कभी किसी से बात ही मत करें आज कल के लोग उच्ची आवाज़ में बोलने वाले लोगो को बक्शते नही है. अगर किसी इंसान को गुस्सा आ जाता है तो सामने वाले को भी गुस्सा आ ही जाता है क्योंकि आप उस वक़्त उच्ची आवाज़ में बोलते हो और आपके बोलने का तरीका भी बदल जाता है इससे अच्छा आप आराम से धीरे से बोलिए की जो आप कह रहे हो वो ठीक नहीं है. ऐसी कोई भी चुब ने वाली बात मत करें. किसी पर चीखे और चिल्लाएं नही. आवाज़ हमेशा धीमे ही अच्छी लगती है. 

उम्मीद करती हूँ मेरी इन टिप्स से आपको बहुत मदद मिलेगी और आपके रिश्तों में होने वाले झगडे आसानी से Solve हो जाएंगे. आपका कोई भी सवाल हो आप हमें कमेंट सेक्शन में कमेंट करके पूछ सकते हो। मुझे आपके सवालों का इंतज़ार रहेगा।

Jhagde Ko Suljhaye Kaise Jhagde Ko Suljhaye Kaise Reviewed by Gourab Das on July 16, 2020 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.